Thursday, October 18, 2018
Home > Quotes > Chanakya top 51 quotes in hindi – आचार्य चाणक्य के सर्वश्रेष्ठ 51 अनमोल विचार|

Chanakya top 51 quotes in hindi – आचार्य चाणक्य के सर्वश्रेष्ठ 51 अनमोल विचार|

Chanakya quotes hindi आचार्य चाणक्य  के सर्वश्रेष्ठ अनमोल विचार- चाणक्य के  उत्छ विकार (quotes) के बारेमे कोण नहीं जनता | हर कोई उनके बताये रस्ते पर चलना चाहता है | Chanakya top 51 quotes यहाँ पर मैंने बताये है|

 

About Chanakya

आचार्य चाणक्य का जन्म आज से लगभग 2400 साल पहले हुआ था। वह नालंदा विश्वविद्यालय के बहुत ही महान आचार्य थे। आचार्य चाणक्य की नीतियों पर कई साम्राज्य स्थापित हुए। यकीन मानिये ये चाणक्य नीति आप की जिंदगी बदल देगी |चलिए पढ़ते है उनके कुछ महान बताये विचार।

 

 

आचार्य चाणक्य के सर्वश्रेष्ठ 51 अनमोल विचार|

 

Quote 1 : हर मित्रता के पीछे कोई ना कोई स्वार्थ होता है| ऐसी कोई मित्रता नहीं जिसमे स्वार्थ ना हो| यह कड़वा सच है|“चाणक्य”


Quote 2 :जो गुजर गया उसकी चिंता नहीं करनी चाहिए, ना ही भविष्य के बारे में चिंतिंत होना चाहिए। समझदार लोग केवल वर्तमान में ही जीते हैं।- “चाणक्य”


Quote 3 :व्यक्ति अकेले ही पैदा होता है और अकेले ही मर जाता है और वो अपने अच्छे और बुरे कर्मो का फल खुद ही भुगतता है और वह अकेले ही नरक या स्वर्ग जाता है। – “चाणक्य”


Quote 4 :इस धरती पर तीन रत्न है, अनाज, पानी और मीठे शब्द – मुर्ख लोग पत्थरो के टुकडो को ही रत्न समझते है। – “चाणक्य”


Quote 5 :अपमानित हो के जीने से अच्छा मरना है. मृत्यु तो बस एक क्षण का दुःख देती है, लेकिन अपमान हर दिन जीवन में दुःख लाता है| – “चाणक्य”


Quote 6 :संधि करने वालों में तेज़ ही संधि का होता है। – “चाणक्य”


Quote 7 :भगवान मूर्तियों में नहीं है, आपकी अनुभूति ही आपका इश्वर है और आपकी आत्मा ही आपका मंदिर है। – “चाणक्य”


Quote 8 :कभी भी उनसे मित्रता मत कीजिये जो आपसे कम या ज्यादा प्रतिष्ठा के हों. ऐसी मित्रता कभी आपको ख़ुशी नहीं देगी | – “चाणक्य”


Quote 9 :पृथ्वी सत्य पे टिकी हुई है। ये सत्य की ही ताक़त है, जिससे सूर्य चमकता है और हवा बहती है। वास्तव में सभी चीज़ें सत्य पे टिकी हुई हैं। – “चाणक्य”


 Quote 10 :वह जो भलाई को लोगो के दिलो में सभी के लिए विकसित करता चला जाता है। वह आसानी से अपने लक्ष्य प्राप्ति के एक-एक कदम आगे बढ़ता चला जाता है। – “चाणक्य”


Quote 11 :पृथ्वी सत्य की शक्ति द्वारा समर्थित है; ये सत्य की शक्ति ही है जो सूरज को चमक और हवा को वेग देती है; दरअसल सभी चीजें सत्य पर निर्भर करती हैं | – “चाणक्य”


 Quote 12 :एक आदर्श पत्नी वो है जो अपने पति की सुबह माँ की तरह सेवा करे और दिन में एक बहन की तरह प्यार करे और रात में एक वेश्या की तरह खुश करे। – “चाणक्य”


Quote 13 :सोने के साथ मिलकर चांदी भी सोने जैसी दिखाई पड़ती है अर्थात सत्संग का प्रभाव मनुष्य पर अवश्य पड़ता है। – “चाणक्य”


Quote 14 :जो सुख-शांति व्यक्ति को आध्यात्मिक शान्ति के अमृत से संतुष्ट होने पे मिलती है वो लालची लोगों को बेचैनी से इधर-उधर घूमने से नहीं मिलती | – “चाणक्य”


Quote 15 :एक अनपढ़ व्यक्ति का जीवन उसी तरह से बेकार है जैसे की कुत्ते की पूँछ, जो ना उसके पीछे का भाग ढकती  है ना ही उसे कीड़े-मकौडों के डंक से बचाती है| – “चाणक्य”


Quote 16 :योग्य सहायकों के बिना निर्णय करना बड़ा कठिन होता है। – “चाणक्य”


Quote 17 :आग में आग नहीं डालनी चाहिए। अर्थात क्रोधी व्यक्ति को अधिक क्रोध नहीं दिलाना चाहिए। – “चाणक्य”


Quote 18 :सारस की तरह एक बुद्धिमान व्यक्ति को अपनी इन्द्रियों पर नियंत्रण रखना चाहिए और अपने उद्देश्य को स्थान की जानकारी, समय और योग्यता के अनुसार प्राप्त करना चाहिए| – “चाणक्य”


Quote 19 :सुख का आधार धर्म है। – “चाणक्य”


Quote 20 :दुनिया की सबसे बड़ी ताकत युवाशक्ति और महिला की सुंदरता है। – “चाणक्य”


Quote 21 :व्यक्ति अकेले ही पैदा होता है और अकेले ही मर जाता है और वो अपने अच्छे और बुरे कर्मो का फल खुद ही भुगतता है और वह अकेले ही नरक या स्वर्ग जाता है। – “चाणक्य”


Quote 22 :मनुष्य की वाणी ही विष और अमृत की खान है। – “चाणक्य”


Quote 23 :लापरवाही अथवा आलस्य से भेद खुल जाता है।- “चाणक्य”


Quote 24 :एक अकेला पहिया नहीं चला करता। – “चाणक्य”


Quote 25 :सुख और दुःख में समान रूप से सहायक होना चाहिए।- “चाणक्य”


Quote 26 :मंत्रणा के समय कर्त्तव्य पालन में कभी ईर्ष्या नहीं करनी चाहिए। – “चाणक्य”


Quote 27:आलसी राजा की प्रशंसा उसके सेवक भी नहीं करते। – “चाणक्य”


Quote 28 :ठंडा लोहा लोहे से नहीं जुड़ता। – “चाणक्य”


Quote 29:राजा, गुप्तचर और मंत्री तीनों का एक मत होना किसी भी मंत्रणा की सफलता है। – “चाणक्य”


Quote 30 :राजा के प्रतिकूल आचरण नहीं करना चाहिए। – “चाणक्य”


Quote 31 :शराबी व्यक्ति का कोई कार्य पूरा नहीं होता है। – “चाणक्य”


Quote 32 :पूर्वाग्रह से ग्रसित दंड देना लोकनिंदा का कारण बनता है। – “चाणक्य”


Quote 33 :अप्राप्त लाभ आदि राज्यतंत्र के चार आधार हैं। – “चाणक्य”


Quote 34 :जुए में लिप्त रहने वाले के कार्य पूरे नहीं होते हैं। – “चाणक्य”


Quote 35 :दण्डनीति से आत्मरक्षा की जा सकती है।- “चाणक्य”


Quote 36 :उपाय से सभी कार्य पूर्ण हो जाते है।  कोई  कार्य कठिन नहीं रहता। – “चाणक्य”


Quote 37 :कार्य के मध्य में अति विलम्ब और आलस्य उचित नहीं है। – “चाणक्य”


Quote 38 :समय को समझने वाला कार्य सिद्ध करता है। –“चाणक्य”


Quote 39 :ज्ञान अर्थात अपने अनुभव और अनुमान के द्वारा कार्य की परीक्षा करें। – “चाणक्य”


 Quote 40 : धर्म से भी बड़ा व्यवहार है। – “चाणक्य”


Quote 41 :कूट साक्षी नहीं होना चाहिए। – “चाणक्य”


Quote 42 :पापी की आत्मा उसके पापों को प्रकट कर देती है। – “चाणक्य”


Quote 43 :मांस खाना सभी के लिए अनुचित है। – “चाणक्य”


Quote 44 :ज्ञानी पुरुषों को संसार का भय नहीं होता। – “चाणक्य”


Quote 45 :विश्वासघाती की कहीं भी मुक्ति नहीं होती। – “चाणक्य”


Quote 46 :श्रेष्ठ व्यक्ति अपने समान ही दूसरों को मानता है। – “चाणक्य”


Quote 47 :दिया गया दान कभी नष्ट नहीं होता। –“चाणक्य”


Quote 48 :निर्धन होकर जीने से तो मर जाना अच्छा है। –“चाणक्य”


Quote 49 :समस्त संसार धन के पीछे लगा है। –“चाणक्य”


Quote 50 :समुद्र के पानी से प्यास नहीं बुझती। –“चाणक्य”


Quote 51 :अपनी दासी को ग्रहण करना स्वयं को दास बना लेना है। –“चाणक्य”


Ticnok
Hey everyone out here! I am Sachin, the initiater of Ticnok. My primary goal is to reach the maximum souls on this planet and impregnate them with the right positive energy. I asssure you all to provide the best and optimum knowldege that will get miracuious positive modification in each life.
https://ticnok.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *